बुधवार, 14 मार्च 2012

गिरीश पंकज जी के एक उपन्यास के बारे में पढ़ा ख़ुशी हुई पढ़ कर 
आप भी जानिये उन के उपन्यास के बारे में उन ही के शब्दों में 
==============================================
 
२४० पेज के इस उपन्यास में भारतीय गायों की दुर्दशा का वर्णन है. अनेक ज्ञात-अज्ञात गो-कथाये भी है. जिन्हें अपने हिसाब से कुछ और रोचक बनाने की कोशिश की है. उपन्यास में मुज़फ्फर भाई नामक एक पात्र है जो गो सेवा में रत है. उसकी अपनी गौ शाला है. मुझे सुखद आशचर्य हुआ जब जोधपुर प्रवास के दौरान पता चला कि वहा एक मुस्लिम बंधु ''प्रगतिशील मुस्लिम गौ शाला' चला रहे है. जो कल्पना मैंने की, उसे सार्थक देखकर खुशी हुई.गो ह्त्या पर पूरी तरह से प्रतिबंध की मांग भी मैंने पात्रों के माध्यम से उठाई है. उपन्यास सर्वप्रिय प्रकाशन, दिल्ली से छपा है. कीमत १५०/-. रायपुर में वैभव प्रकाशन में उपलब्ध है. प्रकाशक डा.सुधीर शर्मा (9425358748) से संपर्क किया जा सकता है.
गिरीश पंकज 
 
 

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,गिरीश जी के पुस्तक की जानकारी के लिए आभार

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गायों की स्थिति बहुत ही खराब है, यह पुस्तक उन सब स्थितियों पर निश्चय ही प्रकाश डालती होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गिरीश जी के पुस्तक की जानकारी के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं